Tech news

What is c++ । सी + + क्या है की पूरी जानकारी

What is c++ :- सी प्लस प्लस एक प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है जिसका उपयोग कंप्यूटर और मोबाइल प्रोग्राम बनाने के लिए किया जाता है। इसे 1979 में बेल्स लैब में विकसित किया गया था उसे समय इस सी विथ क्लासेस के नाम से जाना जाता था।

What is c++ । सी + + क्या है की पूरी जानकारी

What is c++ :- सी प्लस प्लस एक प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है जिसका उपयोग कंप्यूटर और मोबाइल प्रोग्राम बनाने के लिए किया जाता है। इसे 1979 में बेल्स लैब में विकसित किया गया था उसे समय इस सी विथ क्लासेस के नाम से जाना जाता था।

Whatsapp Group Join
Telegram channel Join

सी की क्लासेस एक महत्वपूर्ण कोडिंग लैंग्वेज थी । जैसे-जैसे समय के साथ कंप्यूटर का उपयोग बढ़ता गया और कंप्यूटर का काम करने में तेज होते गए कंप्यूटर प्रोग्रामिंग की लोकप्रियता बढ़ती गई। सीमित क्लास की कुछ सीमाएं थीं। इस भाषा में लिखे गए प्रोग्राम एवं पूर्ण निश्चित आकार तक ही सीमित थे जिससे डेवलपर्स के लिए चुनौतियां पैदा हुई।

What is c++
What is c++

इन सभी चुनौतियों को दूर करने के लिए जैसे जैसे तकनीकी विकास भी सी भाषा में भी बदलाव किए गए object oriented programming compacts कोसी की क्लासेस लैंग्वेज में शामिल किया गया था।

1983 में इसका नाम बदलकर सी प्लस प्लस लैंग्वेज कर दिया गया जो बिना किसी सीमा के कार्य को जल्दी और आसानी से कर सकती थी यह एक highly sophisticated language है। जो कंप्यूटर के लिए बहुत ही महत्व रखती है।

सी प्लस प्लस कोड कमान के अलावा विजुअल ग्राफिक इन ट्रैफिक के उपयोग की अनुमति देता है जिससे प्रोग्राम के लिए इसे समझने और काम करना आसान हो जाता है सी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज में यह संभव नहीं था।

c++ की विशेषताएं

c++ एक सरल भाषा है जिसे एक यूजर के लिए भी सीखना और समझना आसान है इसे जावा की तुलना में सरल माना जाता है और इसे आसानी से सीख जा सकता है।

ऑब्जेक्ट ओरिएंटेड

एक ऑब्जेक्ट ओरिएंटेड प्रोग्रामिंग लैंग्वेज होने के नाते c++प्रोग्राम लिखने के लिए क्लासेस और ऑब्जेक्ट्स के उपयोग पर जोर देता है। यह डेवलपर को ऑब्जेक्ट ओरिएंटेड सिद्धांत का उपयोग करने के अपने कोड को संरक्षित करने की आज्ञा देता है।

पोर्टेबल

c++ एक पोर्टेबल लैंग्वेज है जिसका अर्थ है कि c++ में लिखे गए प्रोग्राम के बिना किसी परेशानी के अलग-अलग कंप्यूटर पर Execution किया जा सकता है।

High level language

c++ एक हाई लेवल लैंग्वेज है जिसका सेंटेंस अंग्रेजी भाषा में समान है यह विशेषता इसे समझने और इसके साथ काम करना आसान बनाती है।

स्ट्रक्चर्ड लैंग्वेज

c++ स्ट्रक्चर्ड प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है जो उपयोगकर्ताओं को प्रोग्राम को कई मॉडल्स और क्षेत्र में विभाजित करने में सक्षम बनाती है यह एप्रोच क्वॉड ऑर्गेनाइजेशन और रीडेबिलिटी को बढ़ाता है।

लाइब्रेरी

c++ पहले से मौजूद लाइब्रेरी के साथ आता है जो उपयोगी फंक्शन और कोड Snippets का संग्रह प्रदान करता है इस लाइब्रेरी का लाभ लेकर प्रोग्रामर अधिक कुशलता से प्रोग्राम लिख सकते हैं।

Memory management

c++ मेमोरी को प्रबंधन करने के लिए अलग-अलग तकनीक की पेशकश करता है जिससे डेवलपर को मेमोरी allocation और deallocation पर सूक्ष्म नियंत्रण करने की अनुमति मिलती है।

Compiler

c++ प्रोग्राम को compile और रन के लिए एक कंपाइलर का उपयोग किया जाता है यह लिखित कोड को मशीन रीडेबल निर्देशों में अनुवादित करता है

Pointer

c++ पेंटर के उपयोग की सुविधा प्रदान करता है जिसका उपयोग मेमोरी शॉर्टकट्स फंक्शन और बहुत कुछ में हेर फेर करने के लिए किया जाता है।

c++ का उपयोग

 

ऑपरेटिंग सिस्टम

ऑपरेटिंग सिस्टम के निर्माण में c++ कब व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है प्रमुख माइक्रोसॉफ्ट और इंटरनेट एक्सप्लॉरर को c++ का उपयोग करके विकसित किया गया है।

c++ का उपयोग गेम बनाने के लिए किया जाता है

c++ का उपयोग वेब ब्राउज़र बनाने के लिए भी किया जाता है।

c++ बैंकिंग के काम ऑन में भी किया जाता है

और भी बहुत ऐसे काम है जिसमें c++ का उपयोग किया जाता है

c++ के फायदे

c++ एक object oriented programming भाषा है जो प्रोग्रामर को समस्याओं को आसानी से हल करने में मदद करता है।

यह एक पोर्टेबल लैंग्वेज है जिसका उपयोग किसी भी मशीन पर किया जा सकता है अन्य प्रोग्रामिंग भाषाओं की तुलना में c++ अत्यधिक पोर्टेबल है उपयोगकर्ता एक सिस्टम पर कोड लिख सकते हैं और किसी अन्य सिस्टम पर iska use kar sakte हैं।

c++ एक यूजर फ्रेंडली प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है जिससे इसे सीखना आसान हो जाता है इसके syntax को समझने के लिए आपको व्यापक तकनीकी ज्ञान की आवश्यकता नहीं है जो जवाब की तुलना में सरल है यह सरलता आसान समझ में तब्दील हो जाती है।

c++ मैं लिखे गए कोड को पुनः उपयोग कर सकते हैं जिससे नया कोड लिखने की आवश्यकता नहीं होगी। c++ मैं लिखे गए प्रोग्राम या कोड को कई बार उपयोग करने के लिए Duwar Use कर सकते हैं

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button