इन 15 लोगों को नहीं खाना चाहिए अनार ?

दस्त या पेट में जलन वाले: अनार में मौजूद एसिडिटी दस्त या पेट में जलन को बढ़ा सकती है।

एलर्जी वाले: अनार से एलर्जी होने पर खुजली, दाने, या सांस लेने में तकलीफ हो सकती है।

दवाएं लेने वाले: अनार कुछ दवाओं के साथ प्रतिक्रिया कर सकता है, इसलिए डॉक्टर से सलाह लेना जरूरी है।

डायबिटीज: अनार में प्राकृतिक रूप से शर्करा होती है, जो डायबिटीज रोगियों के लिए हानिकारक हो सकती है।

गर्भवती महिलाएं: अनार के बीज गर्भाशय में संकुचन पैदा कर सकते हैं, इसलिए गर्भवती महिलाओं को इसका सेवन सीमित मात्रा में करना चाहिए।

स्तनपान कराने वाली महिलाएं: अनार में मौजूद एसिडिटी स्तनपान कराने वाली महिलाओं में पेट दर्द या दस्त का कारण बन सकती है।

कमजोर पाचन तंत्र वाले: अनार पचाने में थोड़ा मुश्किल होता है, इसलिए कमजोर पाचन तंत्र वाले लोगों को इसका सेवन कम मात्रा में करना चाहिए।

एनीमिया: अनार में मौजूद टैनिन आयरन के अवशोषण में बाधा डाल सकता है, इसलिए एनीमिया रोगियों को इसका सेवन सीमित मात्रा में करना चाहिए।

दांतों की संवेदनशीलता: अनार में मौजूद एसिड दांतों की संवेदनशीलता को बढ़ा सकता है।

गुर्दे की बीमारी: अनार में मौजूद पोटेशियम गुर्दे की बीमारी वाले लोगों के लिए हानिकारक हो सकता है।

मूत्र पथ के संक्रमण: अनार में मौजूद एसिड मूत्र पथ के संक्रमण को बढ़ा सकता है।

गठिया: अनार में मौजूद यूरिक एसिड गठिया के लक्षणों को बढ़ा सकता है।

हाई ब्लड प्रेशर: अनार में मौजूद सोडियम हाई ब्लड प्रेशर वाले लोगों के लिए हानिकारक हो सकता है।

कमजोर हृदय: अनार में मौजूद पोटेशियम कमजोर हृदय वाले लोगों के लिए हानिकारक हो सकता है।

सर्जरी के बाद: अनार में मौजूद एसिड रक्तस्राव को बढ़ा सकता है, इसलिए सर्जरी के बाद इसका सेवन नहीं करना चाहिए।