चाय का शुद्ध हिंदी में नाम क्या है 

 चाय को हिंदी में 'दुग्ध जल मिश्रित शर्करा युक्त पर्वतीय बूटी' कहते हैं

 इसके नाम का अर्थ होता है कि पानी और दूध के मिश्रण 

 को चाय पत्‍ती के साथ मिलाकर बनाना 'दुग्ध जल मिश्रित

शर्करा युक्त पर्वतीय बूटी' कहलाता है

अगर आप चाय ज्यादा पीते हैं तो फिर आपको सीने में जलन हो सकती है

असल में इसमें कैफीन की मात्रा ज्यादा होती है 

वहीं, ज्यादा चाय पीने से आयरन की कमी होने लगती है

 शरीर में. क्योंकि, चाय में मौजूद टैनिन आपके 

 पाचन तंत्र में आयरन के आवशोषण पर बुरा असर डालता है.

एक कथा के अनुसार क़रीब 2700 ईसापूर्व

चीनी शासक शेन नुंग बग़ीचे में बैठे गर्म पानी पी रहे थे

 तभी एक पेड़ की पत्ती उस पानी में आ

 गिरी जिससे उसका रंग बदला और महक भी उठी

 राजा ने चखा तो उन्हें इसका स्वाद बड़ा पसंद आया और इस तरह चाय का आविष्कार हुआ