Bank BC

Jharkhand prati litre dudh subsidy Yojana । झारखंड प्रति लीटर दूध सब्सिडी योजना

Jharkhand prati litre dudh subsidy Yojana:- झारखंड राज्य में दूध के उत्पाद को बढ़ावा देने के लिए झारखंड सरकार ने एक रुपए प्रति लीटर की दर से प्रोत्साहन राशि देने की योजना शुरू की थी

Jharkhand prati litre dudh subsidy Yojana । झारखंड प्रति लीटर दूध सब्सिडी योजना

 

Whatsapp Group Join
Telegram channel Join

Jharkhand prati litre dudh subsidy Yojana:- झारखंड राज्य में दूध के उत्पाद को बढ़ावा देने के लिए झारखंड सरकार ने एक रुपए प्रति लीटर की दर से प्रोत्साहन राशि देने की योजना शुरू की थी जिसे हर वर्ष 2022 में बढ़कर ₹2 कर दिया गया 202324 में इसे बढ़ाकर ₹3 कर दिया करने की घोषणा की गई है।

अगर आप भी झारखंड राज्य के स्थाई निवासी हैं और दूध प्रति लीटर सब्सिडी योजना के बारे में जानकारी पाना चाहते हैं। तो आप हमारे पोस्ट में बने रहें हम आपको इस योजना से जुड़ी सभी जानकारी देने वाले हैं। झारखंड दूध प्रति लीटर सब्सिडी योजना से जुड़ी सभी महत्वपूर्ण जानकारी आपको मिलेगी। ताकि आप भी इस योजना का लाभ बड़ी आसानी से ले सके आपको किसी भी प्रकार की दिक्कत का सामना नहीं करना पड़े इस योजना का लाभ लेने के लिए।

 

Jharkhand prati litre dudh subsidy Yojana

 

झारखंड प्रति लीटर दूध सब्सिडी योजना के अंतर्गत यह सभी लाभ भी दिए जाएंगे।

पशुपालक को दूध उत्पादन करने पर प्रोत्साहन राशि भी दी जाएगी। तथा पशुपालक के उत्पादित दूध की कीमत पर ₹3 प्रति लीटर के दर से बढ़कर प्रोत्साहन राशि दी जाएगी। यानी अब पशुपालक को दूध की कीमत पर ₹3 प्रति लीटर अधिक दिया जाएगा।

पशुपालक को उनके दूध की सही कीमत नहीं मिल पाती जिसके कारण उनका बहुत नुकसान होता है और आय में वृद्धि नहीं कर पाते हैं। इसी समस्याओं को देखते हुए झारखंड प्रति लीटर दूध सब्सिडी योजना की शुरुआत 2021 में झारखंड सरकार द्वारा शुरू की गई थी झारखंड प्रति लीटर दूध सब्सिडी योजना का उद्देश्य यह है। कि पशुपालकों को दूध की कीमत मिल पाए तथा दूध के उत्पादन में बढ़ोतरी हो सके।

 

सरकार द्वारा 2021 में आवेदक को दूध की कीमत पर एक रुपए प्रति लीटर प्रोत्साहन राशि दी जाती थी तथा प्रोत्साहन राशि को 2022 में बढ़कर ₹2 प्रति लीटर कर दिया गया था अब 2023 में पशुपालकों को अधिक लाभ पहुंचाने हेतु प्रोत्साहन राशि तीन रुपए प्रति लीटर के दर से आवेदक को लाभ दिया जाएगा। आवेदक जो झारखंड मिल्क फेडरेशन में पंजीकृत है वह योजना का लाभ ले सकते हैं। पशुपालक अपना उत्पादित दूध मिल्क फेडरेशन के कलेक्शन सेंटर में जमा कर सकते हैं।

Jharkhand prati litre dudh subsidy Yojana के उद्देश्य

 

Jharkhand prati litre dudh subsidy Yojana
Jharkhand prati litre dudh subsidy Yojana

झारखंड प्रति लीटर दूध सब्सिडी का मुख्य उद्देश्य है कि जिन किसानों को पशुपालन करने में कठिनाइयों का सामना करना पड़ता था अब उन सभी के मनोबल को बढ़ावा देने के लिए इस योजना की शुरुआत की गई है। झारखंड सरकार की तरफ से ताकि जिन किसानों ने पशुपालन कर रहे हैं। उन सभी किसानों को दूध का उचित मूल्य मिल सके और अपनी आर्थिक स्थिति को मजबूत कर सके इस योजना के माध्यम से किसान ऑन को आर्थिक स्थिति में वृद्धि होगी और उन्हें पशुपालन की तरफ जागरूक किया जाएगा।

 

Jharkhand prati litre dudh subsidy Yojana का लाभ

झारखंड प्रति लीटर दूध सब्सिडी योजना के अंतर्गत आपको इन सभी सुविधाओं का लाभ दिया जाएगा।

पशुपालक का दूध उत्पादन करने पर प्रोत्साहन राशि दी जाएगी।

पशुपालक को उत्पादित दूध की कीमत पर ₹3 प्रति लीटर के दर से प्रोत्साहन राशि दी जाएगी।

यानी अब पशुपालक को दूध की कीमत प्रति रुपए प्रति लीटर ज्यादा पैसा दिया जाएगा।

Jharkhand prati litre dudh subsidy Yojana की पत्रताएं

पशुपालक झारखंड का मूल निवासी होना चाहिए।

जो पशुपालक दूध उत्पादन करते हैं वह केवल इस योजना का लाभ ले सकते हैं।

पशुपालक झारखंड मिल्क फेडरेशन में पंजीकृत होना चाहिए।।

 

Jharkhand prati litre dudh subsidy Yojana मैं लगने वाला महत्वपूर्ण डॉक्यूमेंट।

झारखंड का स्थाई निवासी प्रमाण पत्र

आधार कार्ड

पासपोर्ट साइज फोटो

बैंक अकाउंट

मोबाइल नंबर

 

Jharkhand prati litre dudh subsidy Yojana मैं आवेदन करने की प्रक्रिया

झारखंड प्रति लीटर दूध सब्सिडी योजना का लाभ झारखंड मिल्क फेडरेशन में पंजीकृत पशुपालक ले सकते हैं।

पंजीकरण के बाद अपने उत्पाद किए गए दूध को झारखंड मिल्क फेडरेशन के किसी भी मेगा कलेक्शन सेंटर में जमा करना होगा।

केवल पंजीकृत पशुपालक है झारखंड मिल्क फेडरेशन को अपना उत्पादित दूध बेच सकते हैं।

लाभार्थी पशुपालक को दूध के लिए तीन रुपए प्रति लीटर के दर से प्रोत्साहन राशि भी दी जाएगी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button