Sarkari yojna

Jharkhand mukhymantri pashudhan Vikas Yojana । झारखंड मुख्यमंत्री पशुधन विकास योजना

Jharkhand mukhymantri pashudhan Vikas Yojana:- झारखंड सरकार ने पशुपालकों और किसानों के लिए झारखंड मुख्यमंत्री पशुधन विकास योजना की शुरुआत की है

Jharkhand mukhymantri pashudhan Vikas Yojana । झारखंड मुख्यमंत्री पशुधन विकास योजना

 

Whatsapp Group Join
Telegram channel Join

Jharkhand mukhymantri pashudhan Vikas Yojana:- झारखंड सरकार ने पशुपालकों और किसानों के लिए झारखंड मुख्यमंत्री पशुधन विकास योजना की शुरुआत की है। इस योजना के अंतर्गत अनुदान सीधे आवेदक के बैंक खाते में दिया जाएगा पशुधन विकास योजना का लाभ लाभुकों का चयन पूर्ण में आयोजित ग्राम सभा द्वारा किया जाएगा इस योजना में महिला व विधवा अपनी सहायक दंपति एवं निशक्त का चयन प्राथमिकता के आधार पर किया जाएगा।

जो भी झारखंड राज्य के नागरिक मुख्यमंत्री पशुधन विकास योजना का लाभ लेना चाहते हैं वह पशुपालक ऑफिस में जाकर योजना के लिए आवेदन कर सकते हैं।

 

Jharkhand mukhymantri pashudhan Vikas Yojana

झारखंड मुख्यमंत्री पशुधन विकास योजना की शुरुआत झारखंड सरकार द्वारा की गई है इस योजना के तहत गांव में निवास करने वाले आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के लोगों को सहायता दी जाएगी।

हालांकि पशुपालन से यहां के किसानों की आमदनी भी होती रही है इस स्थिति को देखते हुए राज्य में पशुपालन को बढ़ावा देने के लिए और किसानों को अतिरिक्त आय दिलाने के लिए राज्य में Muhymantri Pashudhan विकास योजना का संचालन किया जा रहा है।

 

Jharkhand mukhymantri pashudhan Vikas Yojana के उद्देश्य

 

Jharkhand mukhymantri pashudhan Vikas Yojana
Jharkhand mukhymantri pashudhan Vikas Yojana

मुख्यमंत्री पशुधन विकास योजना का शुभारंभ करने का मुख्य उद्देश्य राज्य के किसानों की आय में इजाफा करना है।

सरकार द्वारा अच्छी गुणवत्ता में पशु खरीदने के लिए राज्य के किसानों को सब्सिडी दी जाएगी।

इस योजना के माध्यम से न केवल पशुपालकों को अपने जीवन यापन करने का साधन मिलेगा बल्कि अपनी आय को दुगना करने का भी साधन मिलेगा।

इस योजना का उद्देश्य किसानों को गोपालन बकरी पालन शुगर पालन कूकाट पालन एवं बरकत पालन के लिए आर्थिक मदद दी जाएगी।

पशुपालन करने के लिए राज्य के नागरिक को प्रोत्साहित करना है ताकि इस योजना के तहत किसानों को पशुपालन करने के लिए सब्सिडी दी जा सके।

 

Jharkhand mukhymantri pashudhan Vikas Yojana की विशेषताएं

मुख्यमंत्री पशुधन विकास योजना झारखंड का काम कृषि पशुपालक एवं सहकारिता विभाग झारखंड सरकार द्वारा किया जाएगा।

इस योजना के माध्यम से राज्य सरकार द्वारा पशुपालन करने के लिए किसानों को सब्सिडी दी जाएगी।

झारखंड सरकार की ओर से इस योजना के कार्य के लिए 660 करोड रुपए का बजट निर्धारित किया गया है।

मुख्यमंत्री पशुधन विकास योजना झारखंड के तहत जरूरतमंद महिलाओं एवं निराश्रित को 90% तक की सब्सिडी दी जाएगी।

अन्य सभी किसानों को इस योजना के तहत 75% तक की सब्सिडी का लाभ दिया जाएगा।

महिला किसने अनुसूचित जाति अनुसूचित जनजाति एवं अन्य पिछड़े वर्ग के किसानों को इस योजना के तहत तारीख निकिता दी जाएगी।

झारखंड सरकार द्वारा इस योजना के तहत आवेदक को गोपालन बकरी पालन मुर्गी पालन बत्तख पालन और शुक्र पालन इत्यादि अनुदान का लाभ दिया जाएगा।

 

Jharkhand mukhymantri pashudhan Vikas Yojana की पात्रता

मुख्यमंत्री पशुधन विकास योजना झारखंड का लाभ लेने के लिए आवेदक को झारखंड का मूल निवासी होना अनिवार्य है।

आवेदक को पशुपालक या किस होना अनिवार्य है।

इस योजना का लाभ लेने के लिए आवेदक के पास सभी जरूरी डॉक्यूमेंट होना आवश्यक है।

उन्हीं किसानों को इस योजना का लाभ दिया जाएगा जो इस योजना के पात्र एवं शर्तों को पूरा करते हैं।

Jharkhand mukhymantri pashudhan Vikas Yojana की डॉक्यूमेंट

आधार कार्ड

मोबाइल नंबर

राशन कार्ड

जाति प्रमाण पत्र

मूल निवासी प्रमाण पत्र

पासपोर्ट साइज फोटो

दिव्यांग प्रमाण पत्र

बैंक खाता

 

Jharkhand mukhymantri pashudhan Vikas Yojana मैं आवेदन करने की प्रक्रिया

मुख्यमंत्री पशुधन विकास योजना झारखंड का लाभ लेने के लिए आवेदक को ऑफलाइन आवेदन करना होगा।

इसके लिए सबसे पहले आपको अपने नजदीकी पशुपालक विभाग पर जाना होगा।

वहां जाकर आपको मुख्यमंत्री पशुधन विकास योजना का आवेदन फार्म लेना होगा।

आवेदन फार्म लेने के बाद उसमें पूछी गई सभी जानकारी आपको सही-सही दर्ज करनी होगी तथा मांगे गए दस्तावेज को भी संलग्न करना होगा।

अब आपको यह आवेदन फार्म पशुपालन विभाग कार्यालय में जमा करा देना होगा जहां से आप ने प्राप्त किया था

इस प्रकार आप मुख्यमंत्री पशुधन विकास योजना झारखंड के तहत आवेदन की प्रक्रिया पूरी कर सकें

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button