Sarkari yojna

Indra Gandhi Matritv poshan Yojana 2023 Online Apply | इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना 2023

Indra Gandhi Matritv poshan Yojana भारत के अंदर छोटे बच्चों और उनकी माता के लिए सरकार द्वारा कई प्रकार की योजनाओं का संचालन किया जाता है कई बार केंद्र सर

Indra Gandhi Matritv poshan Yojana 2023 Online Apply | इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना 2023

 

Whatsapp Group Join
Telegram channel Join

Indra Gandhi Matritv poshan Yojana भारत के अंदर छोटे बच्चों और उनकी माता के लिए सरकार द्वारा कई प्रकार की योजनाओं का संचालन किया जाता है कई बार केंद्र सरकार राज्य सरकार के साथ मिलकर ऐसी योजनाओं का संचालन क्या जाता है कई बार केंद्र सरकार राज्य सरकार के साथ मिलकर ऐसी योजनाओं का संचालन करती है राजस्थान में रहने वाली महिलाओं के लिए एक ऐसी ही योजना चलाई जा रही है जिसका नाम मातृत्व पोषण योजना है इस योजना के अंतर्गत गर्भवती महिलाओं को अनेक प्रकार के लाभ प्रदान किए जाते हैं इस योजना के तहत गर्भवती महिलाओं को ₹6000 की आर्थिक सहायता प्रदान की जाती है।

इस आर्थिक सहायता के माध्यम से गर्भवती महिलाओं को गर्भावस्था के दौरान अपने पोषण और स्वास्थ्य की स्थिति में सुधार करने के लिए सहायता मिलती है अगर आप इस योजना का लाभ प्राप्त करना चाहते हैं तो आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से जुड़ी सभी जानकारी प्रदान करगे।

इस आर्टिकल को पढ़कर आपको इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण षण योजना राजस्थान से जुड़े हुए उद्देश्य मिलने वाले आर्थिक सहायता उसके लाभ पात्रता आवश्यक दस्तावेज और अंत में आवेदन प्रक्रिया के बारे में जानने को मिलेगा अगर आप इस योजना का लाभ प्राप्त करना चाहते हैं तो आप हमारे इस आर्टिकल को अंतर अवश्य पढ़ें।

Indra Gandhi Matritv poshan Yojana 2023
Indra Gandhi Matritv poshan Yojana 2023

राजस्थान इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना

 

Indra Gandhi Matritv poshan Yojana राजस्थान के मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत ने पूर्व प्रधानमंत्री श्रीमती इंदिरा गांधी की 103 सी जयंती पर इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना 2023 शुरू किया है इस योजना के अंतर्गत राजस्थान सरकार द्वारा गर्भवती महिलाओं की आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी यह 6000 की आर्थिक सहायता पांच चरणों में प्रदान किया जाएगा इस योजना के अंतर्गत अभी केवल चार जिलों को शामिल किया गया है जल्द ही सुना को पूरे देश में लागू कर दिया जाएगा राजस्थान इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना 2023 के माध्यम से माता तथा बच्चे दोनों को इसमें कुपोषण काम होगा।

19 नवंबर 2020 को पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय इंदिरा गांधी की 103वीं जयंती पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने राजस्थान मैं इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना का शुभारंभ किया था इस योजना के तहत महिलाओं के एक दूसरे संतान पर जन्म पर ₹6000 की आर्थिक सहायता देने का प्रावधान किया है यह योजना प्रदेश के केवल पांच जिले प्रतापगढ़ बांसवाड़ा उदयपुर डूंगरपुर और 12 जीलो के लिए चालू की गई थी क्योंकि यह जिले पिछले जिले माने जाते हैं महिलाओं को आर्थिक रूप से संभल प्रदान करने के लिए उनके स्वास्थ्य की देखभाल करने और पोषण प्रदान करने के लिए इस योजना का शुभारंभ किया गया था पूरे प्रदेश की महिलाओं को मिलेगा।

 

मातृत्व पोषण इंदिरा गांधी योजना का उद्देश्य

 

Indra Gandhi Matritv poshan Yojana राजस्थान इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना का मुख्य उद्देश्य है राज्य की वह सभी गर्भवती महिला एवं स्तनपान करने वाली महिलाओं एवं 3 वर्ष तक के बच्चों के स्वास्थ्य एवं पोषण की स्थिति में सुधार लाना और बच्चे के जन्म के समय दुर्बलता पर की घटनाओं को कम करना है।

अब सभी गर्भवती महिलाओं और बच्चों को उचित पोषण उपलब्ध कराया जाएगा जिसे स्वस्थ बच्चे पैदा होंगे और कुपोषण जैसी समस्याओं पर नियंत्रण किया जाएगा।

योजना के माध्यम से मां और बच्चे दोनों को समुचित रूप से पोषण उपलब्ध कराया जाएगा जिसे स्वस्थ बच्चे पैदा होंगे और कुपोषण जैसी समस्याओं पर नियंत्रण किया जायेगा।

महिला के शिशु को स्तनपान कराया जाने की दशा में उचित पोषण मिल सकेगा जिसके तहत उनके स्वास्थ्य पर किसी भी प्रकार का कोई प्रतिकूल प्रभाव नहीं पड़ेगा योजना के माध्यम से मां के बेहतर स्वास्थ्य और दूसरे बच्चों के रखरखाव के लिए आर्थिक सुविधा प्रदान की जाएगी।

 

इंदिरा गांधी मातृ पोषण योजना के लाभ

 

 

Indra Gandhi Matritv poshan Yojana इंदिरा गांधी मातृ पोषण योजना के लाभ निम्नलिखित इस प्रकार है।

गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं को पोषण सहायता प्रदान करना। योजना के तहत, गर्भवती महिलाओं को प्रति माह 6000 रुपये और स्तनपान कराने वाली महिलाओं को प्रति माह 3000 रुपये की पोषण सहायता प्रदान की जाती है।

महिलाओं को स्वस्थ गर्भावस्था और प्रसव सुनिश्चित करने में मदद करना। योजना के तहत, गर्भवती महिलाओं को नियमित स्वास्थ्य जांच और प्रसवपूर्व देखभाल प्रदान की जाती है।

महिलाओं और उनके बच्चों को पोषण संबंधी समस्याओं से बचाना। योजना के तहत, गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं को आवश्यक पोषक तत्वों की आपूर्ति की जाती है।

मातृ मृत्यु दर और शिशु मृत्यु दर को कम करना। योजना के तहत, गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं को आवश्यक स्वास्थ्य देखभाल प्रदान की जाती है, जिससे मातृ मृत्यु दर और शिशु मृत्यु दर कम हो सकती है।

महिला सशक्तिकरण को बढ़ावा देना। योजना के तहत, गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं को आर्थिक सहायता प्रदान की जाती है, जिससे उन्हें अपने परिवार और समाज में सशक्त बनने में मदद मिल सकती है।

आर्थिक विकास को बढ़ावा देना। योजना के तहत, गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं को पोषण सहायता प्रदान की जाती है, जिससे उनके बच्चों का विकास बेहतर हो सकता है और वे भविष्य में देश के लिए एक उत्पादक नागरिक बन सकते हैं।

सामाजिक न्याय को बढ़ावा देना। योजना के तहत, सभी गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं को, चाहे उनकी आर्थिक स्थिति कुछ भी हो, पोषण सहायता प्रदान की जाती है।

सरकारी सेवाओं में सुधार। योजना के तहत, गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं को नियमित स्वास्थ्य जांच और प्रसवपूर्व देखभाल प्रदान की जाती है, जिससे सरकारी स्वास्थ्य सेवाओं में सुधार हो सकता है।

सार्वजनिक जागरूकता बढ़ाना। योजना के तहत, गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं के अधिकारों और लाभों के बारे में सार्वजनिक जागरूकता बढ़ाने के लिए कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं।

समाज में महिलाओं के प्रति सकारात्मक दृष्टिकोण को बढ़ावा देना। योजना के तहत, गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं को सम्मान और समर्थन प्रदान किया जाता है, जिससे समाज में महिलाओं के प्रति सकारात्मक दृष्टिकोण को बढ़ावा मिल सकता है।

 

 

इंदिरा गांधी मातृ पोषण योजना के विशेषताएं

 

Indra Gandhi Matritv poshan Yojana IGMNPS की कुछ विशिष्ट विशेषताएं इस प्रकार हैं:

गर्भवती महिलाओं को आयरन, फोलिक एसिड और अन्य पोषक तत्वों की खुराक प्रदान करना: IGMNPS गर्भवती महिलाओं को आयरन, फोलिक एसिड, कैल्शियम और विटामिन ए की खुराक प्रदान करती है। यह खुराक गर्भवती महिलाओं को एनीमिया, कम वजन वाले शिशुओं को जन्म देने और अन्य स्वास्थ्य समस्याओं के जोखिम को कम करने में मदद करती है।

स्तनपान कराने वाली महिलाओं को पोषण संबंधी सलाह और समर्थन प्रदान करना: IGMNPS स्तनपान कराने वाली महिलाओं को पोषण संबंधी सलाह और समर्थन प्रदान करती है। यह सलाह और समर्थन स्तनपान को प्रोत्साहित करने और स्तनपान कराने वाली महिलाओं को पोषण संबंधी चुनौतियों का सामना करने में मदद करने में मदद करता है।

गर्भवती महिलाओं और बच्चों के लिए स्वास्थ्य सेवाओं तक पहुंच को बढ़ावा देना: IGMNPS गर्भवती महिलाओं और बच्चों के लिए स्वास्थ्य सेवाओं तक पहुंच को बढ़ावा देता है। यह ऐसा करके करता है कि स्वास्थ्य सुविधाओं को प्रशिक्षित करता है और गर्भवती महिलाओं और बच्चों के लिए स्वास्थ्य सेवाओं की पेशकश करता है।

 

Himachal Pradesh mukhymantri laghu dukandar Kalyan Yojana

 

इंदिरा गांधी मातृ पोषण योजना के लिए ऑनलाइन प्रोसेस

 

 

Indra Gandhi Matritv poshan Yojana ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया विस्तार से:

 

IGIMMS की आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं।

“ऑनलाइन आवेदन करें” टैब पर क्लिक करें।

चरण 1: राज्य और जिले का चयन करें

 

इस चरण में, आपको अपने राज्य और जिले का चयन करना होगा।

 

चरण 2: आधार कार्ड नंबर या मोबाइल नंबर का उपयोग करके लॉग इन करें

 

यदि आपके पास आधार कार्ड है, तो आप आधार कार्ड नंबर का उपयोग करके लॉग इन कर सकते हैं। यदि आपके पास आधार कार्ड नहीं है, तो आप मोबाइल नंबर का उपयोग करके लॉग इन कर सकते हैं।

 

चरण 3: व्यक्तिगत विवरण भरें

 

इस चरण में, आपको अपने व्यक्तिगत विवरण, जैसे नाम, पता, आयु, बैंक खाता विवरण आदि भरने होंगे।

 

चरण 4: गर्भावस्था की स्थिति की पुष्टि करें

 

इस चरण में, आपको अपने गर्भावस्था की स्थिति की पुष्टि करने के लिए एक मेडिकल सर्टिफिकेट अपलोड करना होगा।

 

चरण 5: आवेदन पत्र सबमिट करें

 

इस चरण में, आपको अपना आवेदन पत्र सबमिट करना होगा।

 

आवेदन की स्थिति की जांच करें

 

आप अपने आवेदन की स्थिति को अपने आधार कार्ड नंबर या मोबाइल नंबर का उपयोग करके ऑनलाइन ट्रैक कर सकते हैं।

 

अतिरिक्त जानकारी

 

IGMMS योजना के तहत, पात्र महिलाओं को गर्भावस्था के दौरान और प्रसव के बाद तीन किस्तों में कुल 6,000 रुपये की राशि मिलती है।

पहली किस्त 16 सप्ताह की गर्भावस्था के बाद, दूसरी किस्त 36 सप्ताह की गर्भावस्था के बाद और तीसरी किस्त बच्चे के जन्म के 60 दिनों के भीतर दी जाती है।

IGMMS योजना का लाभ उठाने के लिए, महिला की आयु 19 वर्ष से अधिक और 35 वर्ष से कम होनी चाहिए।

महिला का अपना या उसके पति का बैंक खाता होना चाहिए।

महिला को किसी भी सरकारी स्वास्थ्य सुविधा में अपना प्रसव कराना चाहिए।

 

सहायता के लिए संपर्क करें

 

यदि आपके कोई प्रश्न या समस्याएं हैं, तो आप IGMMS के हेल्पलाइन नंबर 1800-112-112 पर कॉल कर सकते हैं या IGMMS की आधिकारिक वेबसाइट पर ईमेल कर सकते हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button