Tech news

Cloud Computing kya hai | क्लाउड कंप्यूटिंग क्या है ,क्लाउड कंप्यूटिंग के प्रकार

Cloud Computing बता दे कि यह शब्द शायद आपने बहुत बार सुना ही होगा क्या आपको इसके बारे में पता है कि यह आखरी है क्या क्लाउड कंप्यूटिंग क्या है

Cloud Computing kya hai | क्लाउड कंप्यूटिंग क्या है ,क्लाउड कंप्यूटिंग के प्रकार

 

Whatsapp Group Join
Telegram channel Join

Cloud Computing बता दे कि यह शब्द शायद आपने बहुत बार सुना ही होगा क्या आपको इसके बारे में पता है कि यह आखरी है क्या क्लाउड कंप्यूटिंग क्या है क्यों यह आजकल इतना ज्यादा सुनने को मिल रही है जैसे कि हम जानते हैं कि कंप्यूटर नेटवर्क टेक्नोलॉजी पिछले कुछ 20 वर्षों में काफी तरक्की कर चुकी है। जब से इंटरनेट ने अपना अस्तित्व जाहिर की है तब से कंप्यूटर नेटवर्क के फील्ड में बहुत एडवांस भी है खासकर डिसटीब्युटेड कंप्यूटिंग और क्लाउड कंप्यूटिंग जैसे टेक्नोलॉजी के फील्ड में काफी रिसर्च हुई।

टाइमर डिसटीब्युटेड कंप्यूटिंग और क्लाउड कंप्यूटिंग दोनों का कॉन्सेप्ट प्राय समान ही है बस दोनों में कुछ और समानताएं हैं तो अगर आपको क्लाउड कंप्यूटिंग के बारे में समझना है तो आपको डिसटीब्युटेड कंप्यूटिंग की भी समझ होना आवश्यक है।

 

Cloud Computing
Cloud Computing

क्लाउड कंप्यूटिंग क्या है

 

 

Cloud Computing एक कंप्यूटिंग मॉडल है जिसमें सेवाओं, सॉफ्टवेयर, डेटा और एप्लिकेशनों को इंटरनेट के माध्यम से उपलब्ध कराया जाता है। यह एक ऐसा तरीका है जिसमें उपयोगकर्ताओं को कंप्यूटिंग संसाधनों तक पहुंचने के लिए अपने स्वयं के हार्डवेयर या सॉफ्टवेयर खरीदने और बनाए रखने की आवश्यकता नहीं होती है।

 

 

 

क्लाउड कंप्यूटिंग के प्रकार

 

 

Cloud Computing को आमतौर पर चार प्रकारों में विभाजित किया जाता है:

 

पब्लिक क्लाउड: पब्लिक क्लाउड सेवाएं आम जनता के लिए उपलब्ध हैं। वे आमतौर पर बड़े आईटी कंपनियों द्वारा प्रदान की जाती हैं, जैसे कि Amazon Web Services (AWS), Microsoft Azure और Google Cloud Platform।

प्राइवेट क्लाउड: प्राइवेट क्लाउड सेवाएं केवल एक संगठन के लिए उपलब्ध हैं। वे आमतौर पर एक संगठन के अपने डेटा केंद्र में स्थित होते हैं या एक बाहरी प्रदाता द्वारा प्रबंधित किए जाते हैं।

हाइब्रिड क्लाउड: हाइब्रिड क्लाउड सेवाएं पब्लिक और प्राइवेट क्लाउड को एक साथ जोड़ती हैं। यह संगठनों को अपने विशिष्ट आवश्यकताओं के लिए सबसे उपयुक्त संसाधनों का उपयोग करने की अनुमति देता है।

कम्युनिटी क्लाउड: कम्युनिटी क्लाउड सेवाएं दो या दो से अधिक संगठनों द्वारा साझा की जाती हैं। वे आमतौर पर एक सामान्य उद्देश्य या उद्योग के लिए उपयोग किए जाते हैं।

 

 

क्लाउड कंप्यूटिंग के लाभ

 

 

Cloud Computing आपको अपने कंप्यूटिंग संसाधनों को अपनी आवश्यकताओं के अनुसार स्केल करने की अनुमति देता है। आप आवश्यकतानुसार अधिक या कम संसाधनों का उपयोग कर सकते हैं, जिससे आपको अपनी लागतों को कम रखने में मदद मिलती है।

क्लाउड कंप्यूटिंग आपको केवल उन संसाधनों के लिए भुगतान करने की अनुमति देता है जिनका आप उपयोग करते हैं। इससे आपको अपनी लागतों को कम रखने में मदद मिलती है, खासकर यदि आपके पास मौसमी या अप्रत्याशित मांग होती है।

क्लाउड कंप्यूटिंग आपको दुनिया भर में अपने अनुप्रयोगों और डेटा तक पहुंचने की अनुमति देता है। इससे आप अपने कर्मचारियों को कहीं से भी काम करने में सक्षम बनाते हैं, जिससे आपकी उत्पादकता में सुधार होता है।

क्लाउड प्रदाता अपने क्लाउड इन्फ्रास्ट्रक्चर को सुरक्षित करने के लिए मजबूत सुरक्षा उपाय प्रदान करते हैं। इससे आपको अपने डेटा और अनुप्रयोगों की सुरक्षा में मदद मिलती है।

क्लाउड कंप्यूटिंग प्रबंधन को सरल बनाता है। आपको अपने स्वयं के हार्डवेयर और सॉफ़्टवेयर का प्रबंधन करने की आवश्यकता नहीं है। इससे आपको समय और पैसा बचाने में मदद मिलती है।

क्लाउड प्रदाता अक्सर नए सुविधाएँ और सेवाएँ प्रदान करते हैं। इससे आप अपने अनुप्रयोगों को नवीनतम तकनीकों के साथ अपडेट रख सकते हैं।

क्लाउड प्रदाता अक्सर अपने क्लाउड इन्फ्रास्ट्रक्चर को सहिष्णुता प्रदान करते हैं। इससे आप अपने अनुप्रयोगों को ऑनलाइन रख सकते हैं, भले ही एक या अधिक घटक विफल हो जाएँ।

क्लाउड कंप्यूटिंग पारंपरिक ऑन-प्रिमाइसेस कंप्यूटिंग की तुलना में अधिक ऊर्जा कुशल हो सकता है। इससे आप अपने पर्यावरणीय प्रभाव को कम करने में मदद कर सकते हैं।

 

क्लाउड कंप्यूटिंग के लिए कुछ विशिष्ट उदाहरण:

 

एक छोटा व्यवसाय अपने वेबसाइट के लिए क्लाउड होस्टिंग का उपयोग कर सकता है। इससे उन्हें अपने स्वयं के सर्वर खरीदने और प्रबंधित करने की आवश्यकता नहीं है।

एक बड़ा व्यवसाय अपने अनुप्रयोगों और डेटा को क्लाउड में स्थानांतरित कर सकता है। इससे उन्हें अपने IT इन्फ्रास्ट्रक्चर की लागत और जटिलता को कम करने में मदद मिलती है।

एक सरकार अपने नागरिकों को ऑनलाइन सेवाएं प्रदान करने के लिए क्लाउड कंप्यूटिंग का उपयोग कर सकती है। इससे उन्हें अपने नागरिकों को अधिक कुशलता से सेवा प्रदान करने में मदद मिलती है।

 

Mobile Marketing kya hai 

 

क्लाउड कंप्यूटिंग का इतिहास

 

 

Cloud Computing का इतिहास 1960 के दशक में शुरू हुआ, जब जॉन मेकार्थी ने राय दी कि “कंप्यूटिंग को किसी दिन एक सार्वजनिक उपयोगिता के रूप में संगठित किया जा सकता है”। इस अवधारणा को आगे 1970 के दशक में समय-साझाकरण प्रणालियों के विकास के साथ विकसित किया गया था। समय-साझाकरण प्रणालियों ने उपयोगकर्ताओं को एक साथ एक ही हार्डवेयर पर ऐप्स और डेटा तक पहुंचने की अनुमति दी।

 

1990 के दशक में, इंटरनेट के उदय ने क्लाउड कंप्यूटिंग की संभावनाओं को और बढ़ा दिया। इंटरनेट ने दूरस्थ स्थानों से कंप्यूटिंग संसाधनों तक पहुंचना आसान बना दिया।

 

2000 के दशक में, क्लाउड कंप्यूटिंग ने वास्तविकता में आना शुरू कर दिया। 2002 में, Amazon ने Amazon Web Services (AWS) लॉन्च किया, जो एक क्लाउड कंप्यूटिंग प्लेटफॉर्म था जो उपयोगकर्ताओं को बिक्री के बाद की सेवाओं, बिक्री और मार्केटिंग से लेकर डेटा विश्लेषण तक विभिन्न प्रकार के ऐप्स और सेवाओं को चलाने की अनुमति देता था।

 

AWS ने क्लाउड कंप्यूटिंग को एक व्यावसायिक व्यवहार्यता में बदल दिया। इसके बाद, कई अन्य प्रदाताओं ने अपने स्वयं के क्लाउड कंप्यूटिंग प्लेटफॉर्म पेश किए।

 

2010 के दशक में, क्लाउड कंप्यूटिंग तेजी से लोकप्रिय हो गया। छोटे व्यवसायों से लेकर बड़े उद्यमों तक, सभी ने क्लाउड कंप्यूटिंग का लाभ उठाना शुरू कर दिया। क्लाउड कंप्यूटिंग ने लागत में कमी, लचीलापन और सुरक्षा में सुधार के साथ कंपनियों के लिए कई लाभ प्रदान किए।

 

आज, क्लाउड कंप्यूटिंग दुनिया भर में सूचना प्रौद्योगिकी उद्योग का एक प्रमुख हिस्सा है। यह व्यवसायों, सरकारों और व्यक्तियों के लिए सूचना तक पहुंच और प्रबंधन करने का एक लोकप्रिय तरीका है।

 

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button